Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2023 · 1 min read

सुविचार

सुविचार
“आशा की एक छोटी सी किरण ही सम्पूर्ण सफलता की जन्म दाता है । जो थकान, निराशा अनुभव करता है, वस्तुत: वह बूढ़ा है, भले ही वह आयु के दृष्टि से जवान ही क्यों न हो । इसी प्रकार वह जवान है, जिसमें आशा, उत्साह और हिम्मत मौजूद है, भले ही उसके चेहरे पर बुढ़ापा झलकता है । शरीर की स्थिति नहीं अपितु मन पर छाई हुई निराशा ही दु:खदायी होती हैं ।”
_______________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पचोर जिला -राजगढ़ (म.प्र.)
_________________________

233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
तुम जो हमको छोड़ चले,
तुम जो हमको छोड़ चले,
कृष्णकांत गुर्जर
#गीत
#गीत
*Author प्रणय प्रभात*
हम कवियों की पूँजी
हम कवियों की पूँजी
आकाश महेशपुरी
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
मां
मां
Irshad Aatif
शायद ये सांसे सिसक रही है
शायद ये सांसे सिसक रही है
Ram Krishan Rastogi
*रामपुर के पाँच पुराने कवि*
*रामपुर के पाँच पुराने कवि*
Ravi Prakash
बेमेल शादी!
बेमेल शादी!
कविता झा ‘गीत’
श्राद्ध
श्राद्ध
Mukesh Kumar Sonkar
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
धड़कन धड़कन ( गीत )
धड़कन धड़कन ( गीत )
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
Paras Nath Jha
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
"रेलगाड़ी सी ज़िन्दगी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
बाबा साहब की अंतरात्मा
बाबा साहब की अंतरात्मा
जय लगन कुमार हैप्पी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
शेखर सिंह
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...