Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

सुन्दरता।

मन को मोहित करने वाली
सुंदरता ढल जाती है,
अरी नाज से भरी जवानी
क्यों इतना इठलाती है।

माना इस लावण्य-राशि पर
नत होता संसार अभी,
अंग-अंग में सदा सयानी
बहती है रसधार अभी।

मादकता से भरी बावरी
राग-रंग सब क्षणिक यहाँ,
कोमलता, कमनीय अदा पर
गर्व न करना तनिक यहाँ ।

मंत्रमुग्ध जग करने वाली
रूप-रश्मि का अंत हुआ,
मुरझाये वन के फूलों पर
फिर से कहाँ वसंत हुआ।

अनिल मिश्र प्रहरी ।

Language: Hindi
60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
Dr fauzia Naseem shad
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
पूर्वार्थ
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2816. *पूर्णिका*
2816. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
दो का पहाडा़
दो का पहाडा़
Rituraj shivem verma
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
Sandeep Mishra
बहुजन दीवाली
बहुजन दीवाली
Shekhar Chandra Mitra
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कवि दीपक बवेजा
मेहनत का फल
मेहनत का फल
Pushpraj Anant
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज हालत है कैसी ये संसार की।
आज हालत है कैसी ये संसार की।
सत्य कुमार प्रेमी
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
बड़े हो गए नहीं है शिशुपन,
बड़े हो गए नहीं है शिशुपन,
Satish Srijan
"कंचे का खेल"
Dr. Kishan tandon kranti
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
फ़ितरत का रहस्य
फ़ितरत का रहस्य
Buddha Prakash
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
लौट आयी स्वीटी
लौट आयी स्वीटी
Kanchan Khanna
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
■ सामयिक सवाल...
■ सामयिक सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
Harminder Kaur
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
Shashi kala vyas
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
Dilip Kumar
Loading...