Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी

सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी
ना कोई राजा है ना कोई रानी
सुनो सुनाऊं……….
प्रकृति का तो ह्रास हो रहा
चारों तरफ सर्वनाश हो रहा है
दूषित हो रही हवा और पानी
सुनो सुनाऊॅ……….
विलुप्त हो रहे पेड़ निराले
नदी पहाड़ घाटी और नाले
हुए हैं दुर्लभ अन्य प्राणी
सुनो सुनाऊॅ॑……….
कब तक ये संताप सहेगी
एक दिन बदला आप ये लेगी
होगी बहुत मानव की हानि
सुनो सुनाऊॅ॑……….
चलो ‘V9द’ एक पेड़ लगाएं
अपना फर्ज हम आज निभाएं
प्रकृति करती है आज बचानी
सुनो सुनाऊॅ॑……….

2 Likes · 93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
दिनाक़ 03/05/2024
दिनाक़ 03/05/2024
Satyaveer vaishnav
जो पड़ते हैं प्रेम में...
जो पड़ते हैं प्रेम में...
लक्ष्मी सिंह
अभाव और साहित्य का पुराना रिश्ता है अभाव ही कवि को नए आलंबन
अभाव और साहित्य का पुराना रिश्ता है अभाव ही कवि को नए आलंबन
गुमनाम 'बाबा'
अपना-अपना दुःख
अपना-अपना दुःख
Dr. Kishan tandon kranti
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
Rekha khichi
वतन-ए-इश्क़
वतन-ए-इश्क़
Neelam Sharma
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
Mangilal 713
अयोध्या
अयोध्या
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
सोने का हिरण
सोने का हिरण
Shweta Soni
मैं तुझसे मोहब्बत करने लगा हूं
मैं तुझसे मोहब्बत करने लगा हूं
Sunil Suman
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
*प्रणय प्रभात*
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
शेखर सिंह
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/57.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...