Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2024 · 1 min read

सिसकियाँ

सुनाई देती है अक्सर
दोपहर में
नदी की सिसकियाँ,
सूख चुकी है वह
गहराई तक
कहीं नहीं है उसमें
जरा सी भी आर्द्रता,
वह बहुत तपती है
दहकती है,
उसमें रेत तक भी
नहीं दिखती है।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
ତୁମ ର ହସ
ତୁମ ର ହସ
Otteri Selvakumar
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
नाजायज इश्क
नाजायज इश्क
RAKESH RAKESH
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
कल मेरा दोस्त
कल मेरा दोस्त
SHAMA PARVEEN
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
Madhuyanka Raj
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
जिन स्वप्नों में जीना चाही
जिन स्वप्नों में जीना चाही
Indu Singh
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
सत्य कुमार प्रेमी
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
कुण्डलिया
कुण्डलिया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कभी चाँद को देखा तो कभी आपको देखा
कभी चाँद को देखा तो कभी आपको देखा
VINOD CHAUHAN
रोला छंद :-
रोला छंद :-
sushil sarna
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
23/68.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/68.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
कैसा होगा मेरा भविष्य मत पूछो यह मुझसे
gurudeenverma198
*योग-दिवस (बाल कविता)*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
Loading...