Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 2 min read

सावन भादो

शीर्षक–सावन भादों की बदरिया
रचना–

सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे ।।
ढंक जाए सूरज, बादल
और बारिस जीवन की
खुशियां जैसे भावे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
बादल और बारिश जैसे
चाहत वइसन आवे फुहार
छम छम पायल की झंकार
मन प्रीत प्यार जगावे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
उमड़ घुमड़ ,बादल और
बारिश प्रेम प्रीति की रीति
राग बताये।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
जब आवे बादल और वारिश
प्यार प्रेम की मस्ती याद आवे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
रिमझिम बारिश की फुहार
भीगा बदन गोरी का आँगर
प्यार के बादल और बरसात
मौसम लाये।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
बाहारों की बादल और बारिश
दिल की गली में मोहब्बत के
अरमां जगाए।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे ।।
ढंक जाए सूरज, बादल
और बारिस जीवन की
खुशियां जैसे भावे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
बादल और बारिश जैसे
चाहत वइसन आवे फुहार
छम छम पायल की झंकार
मन प्रीत प्यार जगावे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
उमड़ घुमड़ ,बादल और
बारिश प्रेम प्रीति की रीति
राग बताये।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
जब आवे बादल और वारिश
प्यार प्रेम की मस्ती याद आवे।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
रिमझिम बारिश की फुहार
भीगा बदन गोरी का आँगर
प्यार के बादल और बरसात
मौसम लाये।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
बाहारों की बादल और बारिश
दिल की गली में मोहब्बत के
अरमां जगाए।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।
चाँद बादल की आगोश में
मल्लिका मोहब्बत की पायल
की छम छम जिंदगी मोहब्बत
का सरगम सुनाए।।
सावन भादों की बदरिया
मनभावन लागे।।

नांदलाल मणि त्रिपाठी पीतांम्बर गोरखपुर उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
Tag: गीत
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
"चाणक्य"
*प्रणय प्रभात*
तेरी पनाह.....!
तेरी पनाह.....!
VEDANTA PATEL
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम हिंदुओ का ही हदय
हम हिंदुओ का ही हदय
ओनिका सेतिया 'अनु '
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बुद्ध होने का अर्थ
बुद्ध होने का अर्थ
महेश चन्द्र त्रिपाठी
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
Don't leave anything for later.
Don't leave anything for later.
पूर्वार्थ
गजल
गजल
Punam Pande
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
3279.*पूर्णिका*
3279.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
प्रेम जब निर्मल होता है,
प्रेम जब निर्मल होता है,
हिमांशु Kulshrestha
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
*भादो श्री कृष्णाष्टमी ,उदय कृष्ण अवतार (कुंडलिया)*
*भादो श्री कृष्णाष्टमी ,उदय कृष्ण अवतार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पहचान धूर्त की
पहचान धूर्त की
विक्रम कुमार
"" *ईश्वर* ""
सुनीलानंद महंत
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
"चली आ रही सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
Dushyant Kumar
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
Loading...