Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

सारे ही चेहरे कातिल है।

सारे ही चेहरे कातिल है।
हम जाए भी तो जाए कहां।।

ऐ खुदा अब तू ही बता।
मुझको यूं खुशियों का पता।।

कहीं हासिल ना सुकूं है।
नफरत फैली है यूं बे पनाह।।

हर शू ही धुंआ धुंआ है।
उजड़ी है सारी ही बस्तियां।।

अदब ए निशां बचे ना।
मिट गई शहर की हस्तियां।।

यूं जमीं को मैला किया।
देखो रो रहा है ये आसमां।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
ला-फ़ानी
ला-फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मां
मां
goutam shaw
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
2981.*पूर्णिका*
2981.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां
मां
Amrit Lal
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
Meenakshi Masoom
कोना मेरे नाम का
कोना मेरे नाम का
Dr.Priya Soni Khare
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
Shweta Soni
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
लेंगे लेंगे अधिकार हमारे
लेंगे लेंगे अधिकार हमारे
Rachana
* अवधपुरी की ओर *
* अवधपुरी की ओर *
surenderpal vaidya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
■ लोकतंत्र की जय।
■ लोकतंत्र की जय।
*प्रणय प्रभात*
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
टूट गया हूं शीशे सा,
टूट गया हूं शीशे सा,
Umender kumar
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
संकल्प
संकल्प
Vedha Singh
माँ से मिलने के लिए,
माँ से मिलने के लिए,
sushil sarna
Loading...