Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )

सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
==============
सारे सब्जी-हाट में , गंगाफल अभिराम
भंडारे में आ रहा ,सदियों से यह काम
सदियों से यह काम, यही कद्दू कहलाता
सीताफल भी नाम, कभी काशीफल आता
कहते रवि कविराय , तराजू पर सब हारे
पलड़े पर यह एक , दूसरे पर फल सारे
********************************
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99 97 61 5451

216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दुम
दुम
Rajesh
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
ईष्र्या
ईष्र्या
Sûrëkhâ
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
Love's Sanctuary
Love's Sanctuary
Vedha Singh
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मानव हो मानवता धरो
मानव हो मानवता धरो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वनिता
वनिता
Satish Srijan
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
मोहब्बत
मोहब्बत
Dinesh Kumar Gangwar
एक जहाँ हम हैं
एक जहाँ हम हैं
Dr fauzia Naseem shad
"इंसान की फितरत"
Yogendra Chaturwedi
आज के ज़माने में असली हमदर्द वो, जो A का हाल A के बजाए B और C
आज के ज़माने में असली हमदर्द वो, जो A का हाल A के बजाए B और C
*प्रणय प्रभात*
जहाँ खुदा है
जहाँ खुदा है
शेखर सिंह
2409.पूर्णिका
2409.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पहला इश्क
पहला इश्क
Dipak Kumar "Girja"
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
Happy Mother's Day ❤️
Happy Mother's Day ❤️
NiYa
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
Awadhesh Singh
Loading...