Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 1 min read

सारा ही जग तप रहा

सारा ही जग तप रहा , खिली हुई यूँ धूप
अमलतास का पर हुआ , सोने जैसा रूप
सोने जैसा रूप, दहकता भी गुलमोहर
धरती का श्रृंगार , कर रहे मिलकर सुन्दर
मगर अर्चना आज आदमी गम का मारा
मौसम की खा मार , बिगड़ता जीवन सारा

डॉ अर्चना गुप्ता

203 Views
You may also like:
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
चरखा दिए चलाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आजकल इश्क नही 21को शादी है
Anurag pandey
*अंग्रेजों के सिक्कों में झाँकता इतिहास*
Ravi Prakash
सजा मिली है।
Taj Mohammad
जो देखें उसमें
Dr.sima
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी के रंग
shabina. Naaz
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
“ पुराने नये सौगात “
DrLakshman Jha Parimal
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
तुम्हारा शिखर
Saraswati Bajpai
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ तो ऐसा कर जाओ
कवि दीपक बवेजा
'पूर्णिमा' (सूर घनाक्षरी)
Godambari Negi
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चाहत कुर्सी की जागी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
✍️हैरत है मुझे✍️
'अशांत' शेखर
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
ख्वाहिश है बस इतना
Anamika Singh
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
माँ की ममता
gurudeenverma198
शेर
Rajiv Vishal
शिव और सावन
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
मैं किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
Loading...