Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
Jun 10, 2016 · 1 min read

सारा ही जग तप रहा

सारा ही जग तप रहा , खिली हुई यूँ धूप
अमलतास का पर हुआ , सोने जैसा रूप
सोने जैसा रूप, दहकता भी गुलमोहर
धरती का श्रृंगार , कर रहे मिलकर सुन्दर
मगर अर्चना आज आदमी गम का मारा
मौसम की खा मार , बिगड़ता जीवन सारा

डॉ अर्चना गुप्ता

158 Views
You may also like:
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फूल की ललक
Vijaykumar Gundal
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गांव के घर में।
Taj Mohammad
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
** शरारत **
Dr. Alpa H. Amin
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
"बेरोजगारी"
पंकज कुमार "कर्ण"
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
Loading...