Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

सायलेंट किलर

भारतीय हिंदू संस्कार में
बेटा होने एक खुशी की थाली बजती थी।
यह परम्परा जनाना थी

कोरोना-प्रकोप पर विज्ञान युग में
थाली बज रही है।
थाली बजाने का संस्कार यह
हिन्दू है, मर्दाना है।

इस आयातित मर्दाना संस्कार को प्रक्षिप्त कर
धर्म से चलती राजसत्ता ने
कोरोना पर ठोंका है।

मगर, अपनी संस्कृति में
अपने जन्म पर थाली बजने से वंचित बेटियाँ भी कोरोना निवारक नव रस्मी थाली पीट गयी हैं।

ऐसे ही फैलता है जहर
नई रस्म रच
और, सहज ही पीते जाते हैं हम जहर!

Language: Hindi
1 Like · 256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कविता
कविता
Shiva Awasthi
#हाइकू ( #लोकमैथिली )
#हाइकू ( #लोकमैथिली )
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
मेरे जैसे तमाम
मेरे जैसे तमाम "fools" को "अप्रैल फूल" मुबारक।
*Author प्रणय प्रभात*
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
The_dk_poetry
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
कुंडलिया - होली
कुंडलिया - होली
sushil sarna
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2333.पूर्णिका
2333.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्यार
प्यार
लक्ष्मी सिंह
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता
पिता
Kavi Devendra Sharma
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
Amulyaa Ratan
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
दो पाटन की चक्की
दो पाटन की चक्की
Harminder Kaur
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
Colours of heart,
Colours of heart,
DrChandan Medatwal
धृतराष्ट्र की आत्मा
धृतराष्ट्र की आत्मा
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
Loading...