Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

“सम्भावना”

“सम्भावना”
लगता है
संवेदनाओं की चादर ओढ़कर
जिस दिन आदमी धमकेगा,
सत्य और सृजन
पृथ्वी में खुश होकर
अनन्त आकाश को चूमेगा।

1 Like · 1 Comment · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
...........
...........
शेखर सिंह
रिश्ते
रिश्ते
Mangilal 713
"एक जंगल"
Dr. Kishan tandon kranti
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
एक पंथ दो काज
एक पंथ दो काज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3314.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मर मिटे जो
मर मिटे जो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Sanjay ' शून्य'
बसंत हो
बसंत हो
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ,  तो इस कविता के भावार
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ, तो इस कविता के भावार
Sukoon
*धन को चाहें निम्न जन ,उच्च लोग सम्मान ( कुंडलिया )*
*धन को चाहें निम्न जन ,उच्च लोग सम्मान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
A Dream In The Oceanfront
A Dream In The Oceanfront
Natasha Stephen
हिटलर
हिटलर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
झुकना होगा
झुकना होगा
भरत कुमार सोलंकी
Expectations
Expectations
पूर्वार्थ
किराये के मकानों में
किराये के मकानों में
करन ''केसरा''
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
● रूम-पार्टनर
● रूम-पार्टनर
*प्रणय प्रभात*
खिंचता है मन क्यों
खिंचता है मन क्यों
Shalini Mishra Tiwari
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
नेताजी (कविता)
नेताजी (कविता)
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
Loading...