Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-409💐

समुंदर के मायने मुझसे कोई पूछिएगा,
कोई अपना कह दे कि एतिबार नहीं है,
ख़ामोश हो गया है दिल-ओ-दिमाग़ मेरा,
इश्क़ की कोई कैसी भी लहर उठती नहीं है,

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
सजावट की
सजावट की
sushil sarna
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
"इन्तहा"
Dr. Kishan tandon kranti
सफर दर-ए-यार का,दुश्वार था बहुत।
सफर दर-ए-यार का,दुश्वार था बहुत।
पूर्वार्थ
■ निकला नतीजा। फिर न कोई चाचा, न कोई भतीजा।
■ निकला नतीजा। फिर न कोई चाचा, न कोई भतीजा।
*Author प्रणय प्रभात*
दो शे'र - चार मिसरे
दो शे'र - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
*आओ पाने को टिकट ,बंधु लगा दो जान : हास्य कुंडलिया*
*आओ पाने को टिकट ,बंधु लगा दो जान : हास्य कुंडलिया*
Ravi Prakash
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं सफ़र मे हूं
मैं सफ़र मे हूं
Shashank Mishra
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
अनूप अम्बर
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
Taj Mohammad
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
शेखर सिंह
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
जीवन में अहम और वहम इंसान की सफलता को चुनौतीपूर्ण बना देता ह
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...