Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

समय

बिना सोचे
अपना सारा
समय
तुम्हें दे दिया
अब सोचती हूं
समय !
था मेरे पास
जो तुम्हें दे
दिया ।

Language: Hindi
1 Like · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*लज्जा*
*लज्जा*
sudhir kumar
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
Ranjeet kumar patre
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
Subhash Singhai
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
माँ
माँ
Harminder Kaur
मैं भी साथ चला करता था
मैं भी साथ चला करता था
VINOD CHAUHAN
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
पहली बारिश मेरे शहर की-
पहली बारिश मेरे शहर की-
Dr Mukesh 'Aseemit'
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये खत काश मेरी खामोशियां बयां कर पाती,
ये खत काश मेरी खामोशियां बयां कर पाती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चाटुकारिता
चाटुकारिता
Radha shukla
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्रकृति
प्रकृति
Seema Garg
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
Rituraj shivem verma
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फैसला
फैसला
Dr. Kishan tandon kranti
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
धन्य होता हर व्यक्ति
धन्य होता हर व्यक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सोच
सोच
Sûrëkhâ
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
Loading...