Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

समझौता

जब भी तुम मुझे
मैं तुम्हें देखती हूं
एकटक
बहुत से भाव
आंखों में आकर
गायब हो जाते हैं
समझना तुम भी
नहीं चाहते
समझाना मैं भी
नहीं चाहती
फिर भी
परिस्थितियों से
संघर्ष की जगह
समझौता ही करना होगा
मेरी बातों को तुम्हें
आज नहीं तो कल
समझना होगा।

Language: Hindi
2 Likes · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
Dr. Man Mohan Krishna
कुंती कान्हा से कहा,
कुंती कान्हा से कहा,
Satish Srijan
हृदय परिवर्तन जो 'बुद्ध' ने किया ..।
हृदय परिवर्तन जो 'बुद्ध' ने किया ..।
Buddha Prakash
जिंदगी की किताब
जिंदगी की किताब
Surinder blackpen
अतीत - “टाइम मशीन
अतीत - “टाइम मशीन"
Atul "Krishn"
चंदा मामा ! अब तुम हमारे हुए ..
चंदा मामा ! अब तुम हमारे हुए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
*फूलों पर भौंरे दिखे, करते हैं गुंजार* ( कुंडलिया )
*फूलों पर भौंरे दिखे, करते हैं गुंजार* ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
सादगी मशहूर है हमारी,
सादगी मशहूर है हमारी,
Vishal babu (vishu)
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
कवि दीपक बवेजा
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
💐प्रेम कौतुक-272💐
💐प्रेम कौतुक-272💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ईद आ गई है
ईद आ गई है
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
Loading...