Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-349💐

सब जानकर कोई ग़ैर कह दे,
एतिबार को बे-एतिबार कह दे,
समझिएगा कोई मतलबी है वो,
जो इश्क़ को सौदा-बाज़ी कह दे।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
दिल ऐसी चीज़ है जो किसी पर भी ग़ालिब हो सकती है..
दिल ऐसी चीज़ है जो किसी पर भी ग़ालिब हो सकती है..
पूर्वार्थ
है मुश्किल दौर सूखी,
है मुश्किल दौर सूखी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कठिनाई  को पार करते,
कठिनाई को पार करते,
manisha
दुनिया रैन बसेरा है
दुनिया रैन बसेरा है
अरशद रसूल बदायूंनी
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
पेइंग गेस्ट
पेइंग गेस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
Neelam Sharma
ज्ञान क्या है
ज्ञान क्या है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संवेदना सुप्त हैं
संवेदना सुप्त हैं
Namrata Sona
एक ज्योति प्रेम की...
एक ज्योति प्रेम की...
Sushmita Singh
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
Dr MusafiR BaithA
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
दोहे - झटपट
दोहे - झटपट
Mahender Singh
2342.पूर्णिका
2342.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*Author प्रणय प्रभात*
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...