Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-349💐

सब जानकर कोई ग़ैर कह दे,
एतिबार को बे-एतिबार कह दे,
समझिएगा कोई मतलबी है वो,
जो इश्क़ को सौदा-बाज़ी कह दे।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
Rashmi Sanjay
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरा महबूब आ रहा है
मेरा महबूब आ रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay
देखी देखा कवि बन गया।
देखी देखा कवि बन गया।
Satish Srijan
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
उसको उसके घर उतारूंगा मैं अकेला ही घर जाऊंगा
उसको उसके घर उतारूंगा मैं अकेला ही घर जाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
कभी कभी ये पलकें भी
कभी कभी ये पलकें भी
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
लड़के वाले थे बड़े, सज्जन और महान (हास्य कुंडलिया)
लड़के वाले थे बड़े, सज्जन और महान (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
#शिव स्तुति#
#शिव स्तुति#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Poem on
Poem on "Maa" by Vedaanshii
Vedaanshii Vijayvargi
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
प्यासा_कबूतर
प्यासा_कबूतर
Shakil Alam
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
Anil chobisa
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
इतना तो अधिकार हो
इतना तो अधिकार हो
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-412💐
💐प्रेम कौतुक-412💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
Loading...