Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

” सत कर्म”

” सत कर्म”
सत्य हमारा धर्म है,
और सत्य हमारा मार्ग ।
सत्य हमारी सोच है
और सत्य हमारा कर्म।
……✍️ योगेंद्र चतुर्वेदी

101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मन से मन को मिलाओ सनम।
मन से मन को मिलाओ सनम।
umesh mehra
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पतझड़
पतझड़
ओसमणी साहू 'ओश'
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
AJAY AMITABH SUMAN
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
शाम
शाम
N manglam
आंखों में तिरी जाना...
आंखों में तिरी जाना...
अरशद रसूल बदायूंनी
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
Sandeep Mishra
देर तक मैंने
देर तक मैंने
Dr fauzia Naseem shad
*नदारद शब्दकोषों से, हुआ ज्यों शब्द सेवा है (मुक्तक)*
*नदारद शब्दकोषों से, हुआ ज्यों शब्द सेवा है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
लफ्ज़
लफ्ज़
Dr Parveen Thakur
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"प्यासा"-हुनर
Vijay kumar Pandey
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
*****राम नाम*****
*****राम नाम*****
Kavita Chouhan
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
तुम्हें बुरी लगती हैं मेरी बातें, मेरा हर सवाल,
तुम्हें बुरी लगती हैं मेरी बातें, मेरा हर सवाल,
पूर्वार्थ
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...