Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

सत्य प्रेम से पाएंगे

शाश्वत सत्य प्रेम से मिलता
जन्म प्रेम से प्रभु लेता,
यम से अपने प्रमुख प्रश्न का
उत्तर पाता नचिकेता –

सबसे बढ़कर सत्य यही है
प्रेम करें सचराचर से।
सत्ता है सर्वत्र प्रेम की
लख लें भीतर बाहर से।।

सिवा प्रेम के सत्य नहीं कुछ
प्रेम हृदय का वासी है।
सृष्टि प्रेम से समुद्भूत है
प्रेम अमर अविनाशी है।।

बिना प्रेम के लगता हमको
अर्थहीन जीवन सारा।
प्रेम करें हम जड़-जंगम से
ईश नहीं इससे न्यारा।।

है अन्तिम निष्पत्ति यही- हम
सत्य प्रेम से पाएंगे।
जीवन जिएं प्रेममय यदि तो
जगदीश्वर मिल जाएंगे।।

5 Likes · 3 Comments · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महेश चन्द्र त्रिपाठी
View all
You may also like:
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
पहचान
पहचान
Seema gupta,Alwar
जिंदगी के वास्ते
जिंदगी के वास्ते
Surinder blackpen
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जाति  धर्म  के नाम  पर, चुनने होगे  शूल ।
जाति धर्म के नाम पर, चुनने होगे शूल ।
sushil sarna
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
Bidyadhar Mantry
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
पुरानी यादें ताज़ा कर रही है।
Manoj Mahato
"जी लो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
संवेदना कहाँ लुप्त हुयी..
Ritu Asooja
सपने..............
सपने..............
पूर्वार्थ
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
gurudeenverma198
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
Ravi Prakash
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
के अब चराग़ भी शर्माते हैं देख तेरी सादगी को,
के अब चराग़ भी शर्माते हैं देख तेरी सादगी को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चुप्पी!
चुप्पी!
कविता झा ‘गीत’
अपनों की जीत
अपनों की जीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
मैं तो महज जीवन हूँ
मैं तो महज जीवन हूँ
VINOD CHAUHAN
गौरवपूर्ण पापबोध
गौरवपूर्ण पापबोध
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
😢😢
😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...