Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

“सच का टुकड़ा”

“सच का टुकड़ा”
जो प्राप्त हुआ
जान लो
वो समाप्त हुआ,
इसलिए
ना मिलो कभी तुम
कि एक तलाश
सदा बाकी रहे..।
– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

5 Likes · 3 Comments · 376 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आप कैसा कमाल करते हो
आप कैसा कमाल करते हो
Dr fauzia Naseem shad
कमज़ोर सा एक लम्हा
कमज़ोर सा एक लम्हा
Surinder blackpen
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
#गुस्ताख़ी_माफ़
#गुस्ताख़ी_माफ़
*Author प्रणय प्रभात*
" राज सा पति "
Dr Meenu Poonia
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
माँ
माँ
लक्ष्मी सिंह
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
भगतसिंह ने कहा था
भगतसिंह ने कहा था
Shekhar Chandra Mitra
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
gurudeenverma198
भूखे हैं कुछ लोग !
भूखे हैं कुछ लोग !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बसंत
बसंत
नूरफातिमा खातून नूरी
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
मईया एक सहारा
मईया एक सहारा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
Dr Archana Gupta
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
शांति तुम आ गई
शांति तुम आ गई
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
Sudha Maurya
Loading...