Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

“सच्ची जिन्दगी”

“सच्ची जिन्दगी”
हकीकत को तो छोड़िए
मौत तो सपने में भी
बहुत भयावह होती है,
सच्ची जिन्दगी तो वो है
जो मौत को देखकर भी
विचलित नहीं होती है।

1 Like · 1 Comment · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
Srishty Bansal
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
SURYA PRAKASH SHARMA
क्या विरासत में
क्या विरासत में
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
चलो सत्य की राह में,
चलो सत्य की राह में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3079.*पूर्णिका*
3079.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🙅महा-ज्ञान🙅
🙅महा-ज्ञान🙅
*प्रणय प्रभात*
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
धर्म सवैया
धर्म सवैया
Neelam Sharma
कहानी- 'भूरा'
कहानी- 'भूरा'
Pratibhasharma
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
शेखर सिंह
मेरे जीवन में सबसे
मेरे जीवन में सबसे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
Sanjay ' शून्य'
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
"लोहा"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आज का दौर
आज का दौर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...