Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

संत गोस्वामी तुलसीदास

श्रावण शुक्ला सप्तमीं, जन्मे तुलसीदास।
श्री चरणों में नमन कोटि, ज्योति परम प्रकाश।।
तुलसी हिंदी में किए, रामचरित का गान।
ज्ञान भक्ति और नीति गुण, धर्म मनुज कल्याण।।
रामकथा रसपान से, बाढ़हिं बुद्धि विवेक।
जीवन जीने का मिले, सुगम मार्ग पथ एक।।
त्याग और कर्तव्य पथ, मर्यादा की आन।
चार पदारथ पाय नर, पढ़हिं निरंतर ध्यान।।
धर्म अर्थ अरु काम मोक्ष, मनुज जन्म का ज्ञान।
सादर सुनहिं जे गुनहिं नर, पाएं पद निर्माण।।
सुख शांति संतोष से, जीवन पूरण काम।
प्रेम निरत संसार में, सदा भजहिं जे राम।।
रामचरित के गान से, मिटहिं तम अज्ञान।
अहं जाए जड़ मूल से, हिय में उपजै ज्ञान।।
धर्म और अधर्म की, गाई कथा महान।
तुलसी ने जग को दिया, दिव्य और अक्षय ज्ञान।।

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक नज़र में
एक नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
माना  कि  शौक  होंगे  तेरे  महँगे-महँगे,
माना कि शौक होंगे तेरे महँगे-महँगे,
Kailash singh
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
Srishty Bansal
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
3185.*पूर्णिका*
3185.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
कवि दीपक बवेजा
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"जांबाज़"
Dr. Kishan tandon kranti
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
नई शुरावत नई कहानियां बन जाएगी
पूर्वार्थ
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
Loading...