Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

* शुभ परिवर्तन *

** नवगीत **

पर्व यही शुभ परिवर्तन का
सबके मन को भाता खूब

मकर संक्रांति पर्व आ गया
सबके मन को खूब भा गया
जागी मन में नयी उमंगें
रंग बिरंगी उड़ी पतंगें
धुंध हटेगी सभी जगह से
हरी भरी फिर होगी दूब

नयी फसल पकने का मौसम
ठिठुरन भी होती जाती कम
सूर्य उत्तरायण में आता
जीव जगत सारा हर्षाता
खिल खिल जाते हृदय सभी के
मिट जाती है सारी ऊब

दान पुण्य तीर्थों के दर्शन
और नित्य स्नान प्रभु अर्चन
सबके हित की करें कामना
हर्षित मन में यही भावना
शुभ स्मरण पूर्वजों का करते
भक्ति भाव में जाते डूब
~~~~~~~~~~~~~~
– सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
संत हृदय से मिले हो कभी
संत हृदय से मिले हो कभी
Damini Narayan Singh
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
माफ कर देना मुझको
माफ कर देना मुझको
gurudeenverma198
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
ruby kumari
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
सच और सोच
सच और सोच
Neeraj Agarwal
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
Anil "Aadarsh"
जय हो कल्याणी माँ 🙏
जय हो कल्याणी माँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
झरोखा
झरोखा
Sandeep Pande
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
#आज_का_शेर-
#आज_का_शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
झाँका जो इंसान में,
झाँका जो इंसान में,
sushil sarna
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
*सास और बहू के बदलते तेवर (हास्य व्यंग्य)*
*सास और बहू के बदलते तेवर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
इज़हार ए मोहब्बत
इज़हार ए मोहब्बत
Surinder blackpen
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-165💐
💐प्रेम कौतुक-165💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अफसोस
अफसोस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"साइंस ग्रुप के समान"
Dr. Kishan tandon kranti
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...