Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

#शीर्षक:- इजाजत नहीं

#दिनांक:-5/5/2024
#शीर्षक:- इजाजत नहीं

तुम बेशक बना सकते हो मुझे अपनी मेहबूबा ,
दिल खोल दर्पण सा दिखा सकते हो, एहसास मीठा !

यकीनन तुम सच्ची मुहब्बत कर सकते हो ,
हद से भी ज्यादा मेरी फिकर कर सकते हो !

ख्वाब में ख्वाइशों का मेला लगा लिया होगा ,
बेकरार दिल, मुझे देख बाग-बाग कर लिया होगा !

फ़ितरत नहीं होगा, तेरा मुकरना ,
मनोरथ होगा, मुझसे जुड़ें रहना !

कभी-कभी हद पार कर जाओगे ,
ना बात करने पर, बेकरार हो जाओगे !

मेरी रूह में प्यार जगाना चाहोगे ,
जो ना मिली, मर जाओगे ………!

एक प्रेम भरी दोस्ती से, प्यार करना चाहता हूँ , तक
आज बात नहीं की से, बेताब हूँ मिलना चाहता हूँ , तक

सब पैतरा अपना सकते हो ,
धीरे-धीरे चलकर दौड़ लगा सकते हो !

ख्यालों में हमें बुला सकते हो
तुम बिना रोक टोंक प्यार निभा सकते हो……!

पर ,,,,,,,,,,,,,
मेरा तो प्रेम हैं
मेरे दिल को इश्क़ की इजाजत नहीं तुमसे ………!!

रचना मौलिक,स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है।
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डगर जिंदगी की
डगर जिंदगी की
Monika Yadav (Rachina)
हवन
हवन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुदरत
कुदरत
manisha
*खाती दीमक लकड़ियॉं, कागज का सामान (कुंडलिया)*
*खाती दीमक लकड़ियॉं, कागज का सामान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
#लघु_दास्तान
#लघु_दास्तान
*प्रणय प्रभात*
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कवि 'घाघ' की कहावतें
कवि 'घाघ' की कहावतें
Indu Singh
I want to hug you
I want to hug you
VINOD CHAUHAN
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
मेरे दिल ओ जां में समाते जाते
मेरे दिल ओ जां में समाते जाते
Monika Arora
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
अरे रामलला दशरथ नंदन
अरे रामलला दशरथ नंदन
Neeraj Mishra " नीर "
7. तेरी याद
7. तेरी याद
Rajeev Dutta
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
gurudeenverma198
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
यूं ही नहीं कहते हैं इस ज़िंदगी को साज-ए-ज़िंदगी,
यूं ही नहीं कहते हैं इस ज़िंदगी को साज-ए-ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पूछो ज़रा दिल से
पूछो ज़रा दिल से
Surinder blackpen
23/20.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/20.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...