Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

शिव-शक्ति लास्य

छेड़े वीणापाणि ने वीणा के तार,
हुए एकत्र देवगण सभी कैलास।
देवों में था छाया आनन्द अपार,
हुए सकल शिव आनन्द के दास।

अद्भुत नृत्य कौशल हुआ प्रदर्शित,
करते तांडव आज स्वयं नटराज।
देख चरण-भुजा, कटि-ग्रीवा मुद्रा,
हुए भाव-विभोर देवगण आज।

साक्षी यक्ष, गंधर्व और किन्नर,
देवविष्णु मृदंग बजाते सहास।
अमृत वर्षण होता कैलाश पर,
देवोत्तम यह अक्षय पुण्य मास।

अमृतवेला ब्रह्ममुहूर्त की, प्रदोषकाल,
अद्भुत अंग-संचालन करें प्रभु आज।
पुलकोल्लसित देवगण हों आनन्दित,
देवदुर्लभ विलोल-हिल्लोल करें नटराज।

देख शिव का अद्भुत नृत्य अभ्यास
आईं देवी भगवती महादेव के पास
क्यों न समस्त संसार देखे ये लास।
प्राणियों में भी हो संचारित उल्लास।

स्वयं महाकालिका का अनुरोध व
संगीतमय वातावरण का सुवास।
महाकाल कैसे करें भला अस्वीकार,
दिया वचन, मर्त्यलोक देखेगा रास।

धर लिया रूप काली ने कृष्ण का,
बन राधा, महादेव भी आये पास।
अहा! देवगण, सब गोप-गोपिकाएँ,
और मनभावन यह वृंदावन वास।

हुआ वाङ्मय अलौकिक धरती पर,
है सुधापान चक्षुओं से,या ‘महारास’,
पीता पीयूष सुभग सकल संसार,
देख शिव-शक्ति का ऊद्भुत लास।

1 Like · 532 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
Ravi Prakash
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
पोषित करते अर्थ से,
पोषित करते अर्थ से,
sushil sarna
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
शेखर सिंह
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
मोक्ष
मोक्ष
Pratibha Pandey
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपने क़द से
अपने क़द से
Dr fauzia Naseem shad
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
गुरुवर
गुरुवर
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
अगर आज किसी को परेशान कर रहे
अगर आज किसी को परेशान कर रहे
Ranjeet kumar patre
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
Loading...