Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

शाम ढलते ही

3
शाम ढलते ढलते सूर्यास्त ले ही आयी,
हुआ था सवेरा पक्षियों की चहकन चली थी पुरवाई।

चहुँ दिशा उमंग उत्साह का हुआ था प्रादुर्भाव,
नयनरम्य इंगित करता प्रतिदिन जीवन का सार।

जीवन की तेज़ रफ़्तार में आशा का होता एकाकार,
अस्तगामी सूरज जगाता नई आस बदलते रंग भरकर।

जाते हुए भर जाता नीले स्वच्छ अम्बर में अनेकों रंग,
सतरंगी सुनहली पीले लाल ऊर्जावान दीप्तमान ढ़ंग।

हुआ ईश्वरीय सत्ता का आभास जब पड़ा चेहरे पर,
जीवन के बदलते हर रंग का एहसास करा अस्तगामी दिनकर।

भर दें हम भी आस पास सूर्यास्त सी प्रदीप्त आशावादिता,
अध्यात्मिकता का हो भान न हो केवल अवसर वादिता।

रोशन करता जहान को पहाड़ी के पीछे सरकते- सरकते,
देकर संदेश धैर्यशीलता का व पुनृमिलन का अहसास कराते-कराते।

डॉ दवीना अमर ठकराल ‘देविका’

36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
Needs keep people together.
Needs keep people together.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उसके कहने पे दावा लिया करता था
उसके कहने पे दावा लिया करता था
Keshav kishor Kumar
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तुम हमेशा से  मेरा आईना हो॥
तुम हमेशा से मेरा आईना हो॥
कुमार
हमने माना अभी
हमने माना अभी
Dr fauzia Naseem shad
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
नारी
नारी
Acharya Rama Nand Mandal
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
SURYA PRAKASH SHARMA
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"आशिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
VINOD CHAUHAN
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
*अहं ब्रह्म अस्मि*
*अहं ब्रह्म अस्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दो शरण
दो शरण
*प्रणय प्रभात*
नया साल
नया साल
Arvina
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
2680.*पूर्णिका*
2680.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
gurudeenverma198
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
ड्यूटी
ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब ज्ञान स्वयं संपूर्णता से परिपूर्ण हो गया तो बुद्ध बन गये।
जब ज्ञान स्वयं संपूर्णता से परिपूर्ण हो गया तो बुद्ध बन गये।
manjula chauhan
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
Loading...