Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

*शब्द*

शब्द
कभी कभी शब्दों से भी मार पड़ जाती है
कभी कभी शब्दों से भी राड बढ़ जाती है
कभी कभी शब्दों से भी बाढ़ बन जाती है
कभी कभी शब्दों से भी बात बन जाती हैं…..
इसलिए
शब्दों को मगज धरते सोचना चाहिए
बोलने से पहले शब्दों को तोलना चाहिए
क्या सही क्या गलत है शब्द जरा! आकंना चाहिए
समय परिस्थिति हाल को देख! शब्द बोलना चाहिए..
वरना
शब्द ही शब्द को ले बैठते हैं
कहीं सुख तो कहीं दुख देतें है
अपनी पहचान के हो शब्द तो ठीक है
वरना अपने ही शब्द!अपनी जुबां काट देते हैं..
इसलिए ध्यान रखें
तोल मोल के फिर शब्द बोल
समझ पडे ना! न मगज खोल
आवभगत में न वो शब्द जोड़
जो भारी पडे मन पे उसे देखकर मुह मोड़….
क्योंकि
शब्दों की भी अपनी एक परिसीमा होती हैं
रहगुज़र वो देख लकिरों पें अक्स खींचती है
नजरियाँ अपना क्या भापंता है उसे मालुम नहीं
वो तो बस शब्दों में गुथी एक हालात परिभाषा होतीं हैं
इसलिए समझों
हर एक शब्द का एक अहम रोल होता है
हालातों को देख वो भुमिका बदलता है
जो वक्त रहते शब्दांश हस्ती!करवटें लेता है
समझना है शब्दों का फैर ये ,तो दिलोदिमाग एक करना होता है…..
आपका अपना ही शब्द है जिसे समझना है आपको
जो हैं इर्दगिर्द तुम्हारें शब्द!उन्हें फिर से सुलझ के जानो
बस जरा सा आंख बंद कर चिंता नहीं तूम चिंतन करों
तब देखना!सब सहज हो जायेगा ये जानकर,उस शब्द का माजरा ऐसा क्यों…..
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

3 Likes · 1 Comment · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*
*"परछाई"*
Shashi kala vyas
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसका  हम शुक्रिया करें,
किसका हम शुक्रिया करें,
sushil sarna
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
भौतिकता
भौतिकता
लक्ष्मी सिंह
*Max Towers in Sector 16B, Noida: A Premier Business Hub 9899920149*
*Max Towers in Sector 16B, Noida: A Premier Business Hub 9899920149*
Juhi Sulemani
#सामयिक_कविता:-
#सामयिक_कविता:-
*Author प्रणय प्रभात*
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
अधिकार जताना
अधिकार जताना
Dr fauzia Naseem shad
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
23/64.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/64.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
Rekha khichi
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
Shweta Soni
"लिहाज"
Dr. Kishan tandon kranti
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
आ रहे हैं बुद्ध
आ रहे हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
कोई मंझधार में पड़ा है
कोई मंझधार में पड़ा है
VINOD CHAUHAN
Loading...