Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

“शब्दों का संसार”

“शब्दों का संसार”
शब्दों के होते जेण्डर हैं
मचते बहुत बवण्डर है
अच्छे-अच्छे जानकार भी
हाथ जोड़ करते सरेण्डर है।
मर्द मूँछों पर ताव देते
भुजाओं पर करते अभिमान
पहनते शर्ट शान से जो
होते फेमिनाइन जेण्डर हैं।

1 Like · 1 Comment · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
Ravi Prakash
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
जो महा-मनीषी मुझे
जो महा-मनीषी मुझे
*प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
SUNIL kumar
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
*समय*
*समय*
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जीत सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम कहाँ जा रहे हैं...
हम कहाँ जा रहे हैं...
Radhakishan R. Mundhra
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
रंगों का त्योहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।
Satish Srijan
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
Ram Krishan Rastogi
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
Dr MusafiR BaithA
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
एक और इंकलाब
एक और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
शिव छन्द
शिव छन्द
Neelam Sharma
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
Loading...