Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,

शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
खुली हुई क़िताब के मानिंद कर निकल।
भूल जा हर तलब, हर इक नशा औ जख्म,
अब तो बस एक रब का तलबगार बन निकल।

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
4 Likes · 406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
gurudeenverma198
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
इंजी. संजय श्रीवास्तव
■ लिख कर रख लो। 👍
■ लिख कर रख लो। 👍
*Author प्रणय प्रभात*
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
आंगन महक उठा
आंगन महक उठा
Harminder Kaur
गीता में लिखा है...
गीता में लिखा है...
Omparkash Choudhary
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
VINOD CHAUHAN
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
अनुभव
अनुभव
Sanjay ' शून्य'
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
जगदीश शर्मा सहज
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
*वैराग्य के आठ दोहे*
*वैराग्य के आठ दोहे*
Ravi Prakash
दंभ हरा
दंभ हरा
Arti Bhadauria
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
असहाय मानव की पुकार
असहाय मानव की पुकार
Dr. Upasana Pandey
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
किसी का सब्र मत आजमाओ,
किसी का सब्र मत आजमाओ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गरीब और बुलडोजर
गरीब और बुलडोजर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...