Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

व्हाट्सएप युग का प्रेम

व्हाट्स ऐप खोला
तेरी चैट पर वो छोटा हरा गोला
तीसरे दिन उभरा है
पतझड़ के आख़िरी पट्टे सा
झर जायेगा जो हाथ लगाया
छोड़ दिया है
ताकि बना रहे अहसास
तुम अभी तक जुड़े हो
हरियाली बाकी है

देख कर भी नहीं पढ़ा
महसूस सकूँ
तुमने कुछ भेजा है-
मन की बात !
तनिक सा प्यार !!
या फर्ज़ निभाया है
किसी के सन्देश को
आगे सरकाया है !!!
चैट खोलते ही
हरा रंग बुझ जाएगा
हरा पत्ता पतझड़ सा
झड़ जायेगा
उस आख़िरी
पत्ते को बचाया है
निराशा को
भरम का
दुशाला ओढ़ाया है

1 Like · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
जिंदगी को रोशन करने के लिए
जिंदगी को रोशन करने के लिए
Ragini Kumari
"स्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नैतिकता का इतना
नैतिकता का इतना
Dr fauzia Naseem shad
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ चल गया होगा पता...?
■ चल गया होगा पता...?
*प्रणय प्रभात*
"अपना"
Yogendra Chaturwedi
अश्रु की भाषा
अश्रु की भाषा
Shyam Sundar Subramanian
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अब तो चरागों को भी मेरी फ़िक्र रहती है,
अब तो चरागों को भी मेरी फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
इतनी के बस !
इतनी के बस !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
सावन सूखा
सावन सूखा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रानी मर्दानी
रानी मर्दानी
Dr.Pratibha Prakash
मुकेश हुए सम्मानित
मुकेश हुए सम्मानित
Mukesh Kumar Rishi Verma
बाढ़ का आतंक
बाढ़ का आतंक
surenderpal vaidya
उनकी उल्फत देख ली।
उनकी उल्फत देख ली।
सत्य कुमार प्रेमी
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...