Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

व्यावहारिक सत्य

कुछ समझ में नहीं आता क्या गलत है ?
क्या सही ?
सही को गलत सिद्ध किया जाता है ,
और गलत को सही ,
अब तो यही लगता है , शक्तिसंपन्न यदि गलती करे ,
फिर भी उसे सही करार दिया जाता है,
जबकि शक्तिविहीन निरीह के सत्याधार को भी
समूह मानसिकता के चलते झुठला दिया जाता है ,
वर्तमान युग में सत्य की परिभाषा द्विअर्थी हो गई है,
प्रतिपादित सत्य वह है, जो उसके
अनुयायी विशाल जनसमूह को मान्य है ,
अकाट्य सत्य भी बहुमत के अभाव में
सिद्ध असत्य अमान्य है ,
‘सत्यमेव जयते’ वचन शक्तिविहीनता, प्रतिबद्धता एवं बलिदान के अभाव में धुंधला पड़ गया है ,
कालचक्र के बदलते संदर्भो में अपनी व्यावहारिकता का प्रमाण सिद्ध करने में असफल होकर रह गया है।

1 Like · 2 Comments · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
sudhir kumar
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
दिल से मुझको सदा दीजिए।
दिल से मुझको सदा दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
2737. *पूर्णिका*
2737. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिटिया
बिटिया
Mukta Rashmi
थकान...!!
थकान...!!
Ravi Betulwala
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
उतना ही उठ जाता है
उतना ही उठ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
"संगीत"
Dr. Kishan tandon kranti
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
पहली बैठक
पहली बैठक "पटना" में
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Loading...