Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

वो मेरी कविता

वो मेरी कविता
झुलस गई
तपती दुपहरी में
एक तो अभी भी
ठिठुर रही है
पेड़ के पीछे
दिया था मैंने छाता
मत भीग पगली
कोई नही आने वाला
तुझे उठाने
पर कहां मानी वो
करती रही इंतजार
कैसे समझाऊं उसे
जिंदगी एक ही सांस
से चलती है,
वो भी खुद ही लेनी पड़ती है।

Language: Hindi
68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
..........?
..........?
शेखर सिंह
प्यार
प्यार
Kanchan Khanna
पल भर तमाशों के बीच ज़िंदगी गुजर रही है,
पल भर तमाशों के बीच ज़िंदगी गुजर रही है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कर रही हूँ इंतज़ार
कर रही हूँ इंतज़ार
Rashmi Ranjan
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
पूर्वार्थ
केना  बुझब  मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
केना बुझब मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
DrLakshman Jha Parimal
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
*शंकर जी (बाल कविता)*
*शंकर जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
दिल से हमको
दिल से हमको
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
कविता
कविता
Neelam Sharma
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
निभाने वाला आपकी हर गलती माफ कर देता और छोड़ने वाला बिना गलत
Ranjeet kumar patre
"सफ़र"
Dr. Kishan tandon kranti
2904.*पूर्णिका*
2904.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
Seema gupta,Alwar
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...