Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही

वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
अतीत के पलों में ही जीना मज़बूरी नही

हालातो से यकीनन उभर जाते है वो लोग
जिनके हौसलों ने कभी उम्मीद हारी नहीं

✍️ ©’अशांत’ शेखर
13/02/2023

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्रिकेटफैन फैमिली
क्रिकेटफैन फैमिली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जच्चा-बच्चासेंटर
जच्चा-बच्चासेंटर
Ravi Prakash
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
■ 100% तौहीन...
■ 100% तौहीन...
*Author प्रणय प्रभात*
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
Shiva Awasthi
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
उसकी गली तक
उसकी गली तक
Vishal babu (vishu)
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-168💐
💐प्रेम कौतुक-168💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
!!! भिंड भ्रमण की झलकियां !!!
!!! भिंड भ्रमण की झलकियां !!!
जगदीश लववंशी
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
आर.एस. 'प्रीतम'
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"बल और बुद्धि"
Dr. Kishan tandon kranti
युद्ध के मायने
युद्ध के मायने
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Loading...