Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 2 min read

वो बचपन था

खेतों से खीरा ले लेते,
बगिया से आम चुरा लेते।
वहीं बूट चने पर कब्जा था,
गन्ना चोरी का जज्बा था।

मन था अबोध पन कचपन था,
अब पता चला वो बचपन था।

पढ़ने से खूब कतराते थे,
बिन बात के डांटे जाते थे।
नङ्गे हो ताल नहाते थे
बिन न्यौता दावत खाते थे,

मन था अबोध पन कचपन था,
अब पता चला वो बचपन था।

छुटपनवृत्ति मनमौजी थी,
घूंघट वाली सब भौजी थी।
नथ पायल झुमका जेवर थे,
उन सबके हम तब देवर थे।

मन था अबोध पन कचपन था,
अब पता चला वो बचपन था।

पेप्सी,कोला न डी जे था,
मिर्चवान का शर्बत पीजे था।
नौटँकी, आल्हा, हरिकीर्तन,
सब्जी पूड़ी खुब लीजे था।

मन था अबोध पन कचपन था,
अब पता चला वो बचपन था।

रेडियो,घड़ी,सइकिल दहेज था,
रिश्तों का बहुत सहेज था।
चौका बर्तन करे चुल्हन थी,
जो मिल जाये वही दुल्हन थी।

मन था अबोध पन कचपन था,
अब पता चला वो बचपन था।

ईमान के चलते चरखे थे,
कुल के सब बूढ़े पुरखे थे।
अपने सम सबका मान भी था,
एक दूजे प्रति सम्मान भी था।

मन था अबोध पन कचपन था,
अब पता चला वो बचपन था।

एक जन घर का जब कमाता था,
परिवार सकल तब खाता था।
भले बचपन में कई कमियां थीं,
खुशियां ज्यादा कम गमियाँ थीं।

मन था अबोध पन कचपन था,
अब पता चला वो बचपन था।

अब सब बड़े ही पैदा होते,
दिल दिन दिन हैं सैदा होते।
प्रपंच ठगी छल का है चलन,
हर पग पर है रिश्तों का मलन।

सब चन्ट हैं न कोई कचपन है,
जाने कहाँ गया वो बचपन है।

Language: Hindi
1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
चाटुकारिता
चाटुकारिता
Radha shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार है नही
प्यार है नही
SHAMA PARVEEN
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
प्यार कर हर इन्सां से
प्यार कर हर इन्सां से
Pushpa Tiwari
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
*भ्राता (कुंडलिया)*
*भ्राता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
Kumar lalit
#बैठे_ठाले
#बैठे_ठाले
*प्रणय प्रभात*
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
श्रेष्ठ विचार और उत्तम संस्कार ही आदर्श जीवन की चाबी हैं।।
श्रेष्ठ विचार और उत्तम संस्कार ही आदर्श जीवन की चाबी हैं।।
Lokesh Sharma
जीवन को नया
जीवन को नया
भरत कुमार सोलंकी
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
बड़ी अजब है जिंदगी,
बड़ी अजब है जिंदगी,
sushil sarna
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
Shweta Soni
पितर पाख
पितर पाख
Mukesh Kumar Sonkar
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
2839.*पूर्णिका*
2839.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
Neelam Sharma
दुम
दुम
Rajesh
Loading...