Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2022 · 1 min read

“वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी”

वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
उम्मीद का सहारा,नदी का किनारा,
होसलो की ऊची उड़ान, माथे से टपकता पसीना जिन की पहचान।
वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
मैं गुड़िया उनकी,वो मेरी जान।
भूल सब दुनिया के ताने,सिर्फ वो मुझको ही जाने।
बचा सब की नजरों से,शिक्षा का मुझे दिया सम्मान।
वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
मुझको भी देते, बेटों सा मान।
आत्मनिर्भर मुझे बनाया ,किया मुझपे एहसान।
टीचर मुझे बना ,दिया मेरे सपनो में जान।
वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
नाम रीतू सिंह

Language: Hindi
Tag: कविता
96 Likes · 145 Comments · 975 Views
You may also like:
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
भाषा का सम्मान—पहचान!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इम्तिहान की घड़ी
Aditya Raj
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
'अशांत' शेखर
इतना काफी है
Saraswati Bajpai
इन्साफ
Alok Saxena
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
जीवन-जीवन होता है
Dr fauzia Naseem shad
पिता की याद
Meenakshi Nagar
तमसो मा ज्योतिर्गमय
Shekhar Chandra Mitra
*बुरा तंबाकू खाना (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
🍀🌺परमात्मन: अंश: भवति तु स्वरूपे दोषः न🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
अगर ज़रा भी हो इश्क मुझसे, मुझे नज़र से दिखा...
सत्य कुमार प्रेमी
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अध्यापक दिवस
Satpallm1978 Chauhan
वो पत्थर
shabina. Naaz
शुभ स्वतंत्रता दिवस मनाए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...