May 2, 2022 · 1 min read

“वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी”

वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
उम्मीद का सहारा,नदी का किनारा,
होसलो की ऊची उड़ान, माथे से टपकता पसीना जिन की पहचान।
वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
मैं गुड़िया उनकी,वो मेरी जान।
भूल सब दुनिया के ताने,सिर्फ वो मुझको ही जाने।
बचा सब की नजरों से,शिक्षा का मुझे दिया सम्मान।
वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
मुझको भी देते, बेटों सा मान।
आत्मनिर्भर मुझे बनाया ,किया मुझपे एहसान।
टीचर मुझे बना ,दिया मेरे सपनो में जान।
वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी, जिन्होंने दी मुझे नई पहचान।
नाम रीतू सिंह

84 Likes · 134 Comments · 693 Views
You may also like:
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
कुंडलियां छंद
Pakhi Jain
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'सती'
Godambari Negi
An abeyance
Aditya Prakash
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
औरतें
Kanchan Khanna
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ग़ज़ल
kamal purohit
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Angad tiwari
Angad Tiwari
किसान
Shriyansh Gupta
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
Loading...