Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

“वो जमाना”

“वो जमाना”
वो भी क्या जमाना था
कि सारा जहां
हमारा दीवाना था,
कोई पागल थे प्रेम में
लेकिन
ये दिल अनजाना था।

2 Likes · 1 Comment · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
#आलेख-
#आलेख-
*प्रणय प्रभात*
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
दोहावली
दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
जग-मग करते चाँद सितारे ।
जग-मग करते चाँद सितारे ।
Vedha Singh
*My Decor*
*My Decor*
Poonam Matia
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कारगिल युद्ध के समय की कविता
कारगिल युद्ध के समय की कविता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
इंजी. संजय श्रीवास्तव
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
आँखों में अँधियारा छाया...
आँखों में अँधियारा छाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
Loading...