Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

वो अनजाना शहर

तेरी यादों का मुझ पर असर हो रहा है,
आज फिर कोई खुद से बेखबर लग रहा है।

यूं तो वही शाम – सुबह हो रहा है,
लेकिन बिन तेरे रात बे-बसर लग रहा है।

यूं तो चलता रहेगा सफर जिंदगी का,
सुना मगर ये रह-गुजर लग रहा है।

हलचल बहुत है गांव में मेरे,
खाली मगर वो डगर लग रहा है ।

हंसती थी खुशियां जिस घर में अक्सर,
सन्नाटे का उसमें बसर लग रहा है।

बन जाऊं संगिनी मैं तेरे सफर में,
अनजाना मगर वो शहर लग रहा है।

लक्ष्मी वर्मा ‘प्रतीक्षा’

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी तेरा
ज़िंदगी तेरा
Dr fauzia Naseem shad
" नाराज़गी " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ आज का दोहा...।
■ आज का दोहा...।
*प्रणय प्रभात*
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
Bidyadhar Mantry
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
दूरियां ये जन्मों की, क्षण में पलकें मिटातीं है।
Manisha Manjari
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
गीतिका छंद
गीतिका छंद
Seema Garg
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
2685.*पूर्णिका*
2685.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
📍बस यूँ ही📍
📍बस यूँ ही📍
Dr Manju Saini
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
जज्बात की बात -गजल रचना
जज्बात की बात -गजल रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
शोख लड़की
शोख लड़की
Ghanshyam Poddar
तेरे बिना
तेरे बिना
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लाल दशरथ के है आने वाले
लाल दशरथ के है आने वाले
Neeraj Mishra " नीर "
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हम तुम और वक़्त जब तीनों क़िस्मत से मिल गए
हम तुम और वक़्त जब तीनों क़िस्मत से मिल गए
shabina. Naaz
एक क्षणिका :
एक क्षणिका :
sushil sarna
*Loving Beyond Religion*
*Loving Beyond Religion*
Poonam Matia
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
ख़ता हुई थी
ख़ता हुई थी
हिमांशु Kulshrestha
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी करता है
जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी करता है
Rituraj shivem verma
Loading...