Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

“वेदना”

“वेदना”
वेदनाओं की गहरी तड़प
पर उन्मुक्ति के आसार नहीं,
हम मांगते रहे मौत हर बार
पर कोई मौत देने को तैयार नहीं.

1 Like · 1 Comment · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
Jogendar singh
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
दुआओं में जिनको मांगा था।
दुआओं में जिनको मांगा था।
Taj Mohammad
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
*****जीवन रंग*****
*****जीवन रंग*****
Kavita Chouhan
😊आज का सच😊
😊आज का सच😊
*प्रणय प्रभात*
संतान को संस्कार देना,
संतान को संस्कार देना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"दादाजी"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
Godambari Negi
मान भी जाओ
मान भी जाओ
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तुम
तुम
Punam Pande
देख कर
देख कर
Santosh Shrivastava
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
आर.एस. 'प्रीतम'
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
2832. *पूर्णिका*
2832. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
19--🌸उदासीनता 🌸
19--🌸उदासीनता 🌸
Mahima shukla
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
Shweta Soni
खेल संग सगवारी पिचकारी
खेल संग सगवारी पिचकारी
Ranjeet kumar patre
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
निकलती हैं तदबीरें
निकलती हैं तदबीरें
Dr fauzia Naseem shad
Loading...