Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2016 · 2 min read

‘ विरोधरस ‘—22. || विरोध के प्रकार || +रमेशराज

1-स्व-विरोध-
————————-
कभी-कभी आदमी भूलवश या अन्जाने में ऐसी गलतियां कर बैठता है जिनके कारण वह अपने को ही धिक्कारने लगता है-
उसको ही सुकरात बताया, ये क्या मैंने कर डाला?
जिसने सबको जहर पिलाया, ये क्या मैंने कर डाला?
छन्दों, बिम्बों, उपमानों का जो कविता का हत्यारा,
कविता का घर उसे दिखाया, ये क्या मैंने कर डाला?
-रमेशराज [सूर्य का उजाला, तेवरी विशेषांक ]

2-पर-विरोध-
————————
स्व से ‘पर’ का रिश्ता निस्संदेह आत्मीयता, आस्था और श्रद्धा पर टिका होता है। किन्तु जब रिश्तों के बीच छल पनपता है, स्वार्थ घनीभूत होते हैं तो समान आत्म वाले दो व्यक्तित्व एक दूसरे के प्रति विरोधी स्वरों में बात करने लगते हैं। ऐसी स्थिति में विरोध का स्वर निम्न प्रकार मुखर होने लगता है-
जीत लेंगे आप छल से सत्य को,
आपका अनुमान था, वो दिन गये।
आपकी जादूगरी को देखकर,
‘त्रस्त’ भी हैरान था, वो दिन गये।
-सुरेश त्रस्त, ‘सम्यक’ तेवरी विशेषांक-92, पृ.12

3-व्यक्तिविशेष-विरोध-
———————————-
जब कोई व्यक्ति विशेष अनाचार-अनीति-भ्रष्टाचार का प्रतीक बन जाता है तो उस व्यक्ति के प्रति व्यक्त किया गया विरोध समूची हैवानियत के धिक्कार की गूंज बन जाता है-
खींचता हर शख्स की अब खाल दातादीन
कर रहा हर जिन्दगी मुहाल दातादीन।
-योगेन्द्र शर्मा, कबीर जिन्दा है, पृ. 70

4-चारित्रिक विरोध-
——————————
आप राणा बनें, न बनें,
खुद को जयचंद ना कीजिए।
-जितेंन्द्र जौहर, तेवरीपक्ष, अ.-सि.-08, पृ.1

विश्वामित्र कहाता है पर,
खुद का मित्र न हो पाया है।
-गिरिमोहन गुरु, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.23

5-अहंकार-विरोध-
———————–
जमीं से ही जुड़े रहियो ये इन्सानी तकाजा है,
न बेजा अपने सर पर तू गुमां का आसमां रखियो।
-रसूल अहमद सागर, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.1

6-विडंबना-विरोध-
———————————
विद्वानों के ग्रन्थ पर आमुख लिखें गंवार,
हंस बजायें तालियां कौए पहनें हार।
-अशोक अंजुम, ललित लालिमा, जन.मार्च-08,पृ.23

7-साम्प्रदायिकता-विरोध-
————————————
काम ईश्वर का या अल्ला का नहीं
जिस तरह से ले रहा है जान तू।
-राजकुमार मिश्र, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.20

8-छद्मता-विरोध-
—————————
चोर-डकैतों ने यहां बदला अपना वेश,
पहले रूप सियाह था, आज धवल परिवेश।
-टीकमचन्दर ढोडरिया, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.23

9-आतंकवाद का विरोध-
———————————–
आह्वान हो युग-पुरुषों का, वीर धनुर्धर का,
आतंकवाद या उग्रवाद के सपने हो जायें अतीत।
-हितेशकुमार शर्मा, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.23

10-असह्य परिस्थिति-विरोध-
——————————————
सोच-सोच के हारा, घबराता जिगर है,
‘भारती’ क्या कहूं, शाम-सी सहर है।
-सुभाष नागर भारती, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.22

11-परम्परा-विरोध-
——————————–
नारी भी कैसे सशक्त हो, दासी बनकर साथ रहे,
नर से अलग न स्वप्न रह सकें, जाये किसके धाम कहां।
-डॉ. परमलाल गुप्त, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.22

12-छल-विरोध-
—————————-
सबेरे को मजे से शाम लिख तू,
तेरे अनुसार अक्षर हो गये हैं।
-केशव शरण, तेवरीपक्ष जन.-मार्च-08, पृ.9

13-विघटन-विरोध-
———————————
अब तो आपस में घात रहने दो,
खुशनुमा कायनात रहने दो।
-डॉ. बी.पी. दुबे, तेवरीपक्ष जन-मार्च-08, पृ.11

14-समाधानात्मक-विरोध-
———————————-
हकीकत के अल्फाज गढ़ने पड़ेंगे,
हमें आईने अब बदलने पड़ेंगे,
बहुत लुट चुकी है शराफत की दुनिया,
हमें अपने तेवर बदलने पड़ेंगे।
-आजाद कानपुरी, तेवरीपक्ष, जन-मार्च-08 पृ.11

15-व्यवस्था-विरोध-
की थी राम-राज्य की आशा,
हाथ लगी बस घोर निराशा।
यह बेजारी कब जायेगी?
मन में रही यही अभिलाषा।
-दर्शन बेजार, तेवरीपक्ष, वर्ष-6,अंक-3, पृ.19

—————- समाप्त ———————————-
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ’
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
मो.-9634551630

Language: Hindi
Tag: लेख
686 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2777. *पूर्णिका*
2777. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
*Author प्रणय प्रभात*
पुराने सिक्के
पुराने सिक्के
Satish Srijan
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
Pravesh Shinde
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh Manu
"माटी तेरे रंग हजार"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
Ghanshyam Poddar
लोभ मोह ईष्या 🙏
लोभ मोह ईष्या 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
" वर्ष 2023 ,बालीवुड के लिए सफ़लता की नयी इबारत लिखेगा "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
Dr. Man Mohan Krishna
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
नववर्ष संदेश
नववर्ष संदेश
Shyam Sundar Subramanian
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
क्यों अब हम नए बन जाए?
क्यों अब हम नए बन जाए?
डॉ० रोहित कौशिक
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*थियोसॉफिकल सोसायटी  से मेरा संपर्क*
*थियोसॉफिकल सोसायटी से मेरा संपर्क*
Ravi Prakash
मुद्दतों बाद लब मुस्कुराए है।
मुद्दतों बाद लब मुस्कुराए है।
Taj Mohammad
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
Loading...