Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

‘ विरोधरस ‘—22. || विरोध के प्रकार || +रमेशराज

1-स्व-विरोध-
————————-
कभी-कभी आदमी भूलवश या अन्जाने में ऐसी गलतियां कर बैठता है जिनके कारण वह अपने को ही धिक्कारने लगता है-
उसको ही सुकरात बताया, ये क्या मैंने कर डाला?
जिसने सबको जहर पिलाया, ये क्या मैंने कर डाला?
छन्दों, बिम्बों, उपमानों का जो कविता का हत्यारा,
कविता का घर उसे दिखाया, ये क्या मैंने कर डाला?
-रमेशराज [सूर्य का उजाला, तेवरी विशेषांक ]

2-पर-विरोध-
————————
स्व से ‘पर’ का रिश्ता निस्संदेह आत्मीयता, आस्था और श्रद्धा पर टिका होता है। किन्तु जब रिश्तों के बीच छल पनपता है, स्वार्थ घनीभूत होते हैं तो समान आत्म वाले दो व्यक्तित्व एक दूसरे के प्रति विरोधी स्वरों में बात करने लगते हैं। ऐसी स्थिति में विरोध का स्वर निम्न प्रकार मुखर होने लगता है-
जीत लेंगे आप छल से सत्य को,
आपका अनुमान था, वो दिन गये।
आपकी जादूगरी को देखकर,
‘त्रस्त’ भी हैरान था, वो दिन गये।
-सुरेश त्रस्त, ‘सम्यक’ तेवरी विशेषांक-92, पृ.12

3-व्यक्तिविशेष-विरोध-
———————————-
जब कोई व्यक्ति विशेष अनाचार-अनीति-भ्रष्टाचार का प्रतीक बन जाता है तो उस व्यक्ति के प्रति व्यक्त किया गया विरोध समूची हैवानियत के धिक्कार की गूंज बन जाता है-
खींचता हर शख्स की अब खाल दातादीन
कर रहा हर जिन्दगी मुहाल दातादीन।
-योगेन्द्र शर्मा, कबीर जिन्दा है, पृ. 70

4-चारित्रिक विरोध-
——————————
आप राणा बनें, न बनें,
खुद को जयचंद ना कीजिए।
-जितेंन्द्र जौहर, तेवरीपक्ष, अ.-सि.-08, पृ.1

विश्वामित्र कहाता है पर,
खुद का मित्र न हो पाया है।
-गिरिमोहन गुरु, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.23

5-अहंकार-विरोध-
———————–
जमीं से ही जुड़े रहियो ये इन्सानी तकाजा है,
न बेजा अपने सर पर तू गुमां का आसमां रखियो।
-रसूल अहमद सागर, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.1

6-विडंबना-विरोध-
———————————
विद्वानों के ग्रन्थ पर आमुख लिखें गंवार,
हंस बजायें तालियां कौए पहनें हार।
-अशोक अंजुम, ललित लालिमा, जन.मार्च-08,पृ.23

7-साम्प्रदायिकता-विरोध-
————————————
काम ईश्वर का या अल्ला का नहीं
जिस तरह से ले रहा है जान तू।
-राजकुमार मिश्र, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.20

8-छद्मता-विरोध-
—————————
चोर-डकैतों ने यहां बदला अपना वेश,
पहले रूप सियाह था, आज धवल परिवेश।
-टीकमचन्दर ढोडरिया, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.23

9-आतंकवाद का विरोध-
———————————–
आह्वान हो युग-पुरुषों का, वीर धनुर्धर का,
आतंकवाद या उग्रवाद के सपने हो जायें अतीत।
-हितेशकुमार शर्मा, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.23

10-असह्य परिस्थिति-विरोध-
——————————————
सोच-सोच के हारा, घबराता जिगर है,
‘भारती’ क्या कहूं, शाम-सी सहर है।
-सुभाष नागर भारती, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.22

11-परम्परा-विरोध-
——————————–
नारी भी कैसे सशक्त हो, दासी बनकर साथ रहे,
नर से अलग न स्वप्न रह सकें, जाये किसके धाम कहां।
-डॉ. परमलाल गुप्त, तेवरीपक्ष अ.-सि.-08,पृ.22

12-छल-विरोध-
—————————-
सबेरे को मजे से शाम लिख तू,
तेरे अनुसार अक्षर हो गये हैं।
-केशव शरण, तेवरीपक्ष जन.-मार्च-08, पृ.9

13-विघटन-विरोध-
———————————
अब तो आपस में घात रहने दो,
खुशनुमा कायनात रहने दो।
-डॉ. बी.पी. दुबे, तेवरीपक्ष जन-मार्च-08, पृ.11

14-समाधानात्मक-विरोध-
———————————-
हकीकत के अल्फाज गढ़ने पड़ेंगे,
हमें आईने अब बदलने पड़ेंगे,
बहुत लुट चुकी है शराफत की दुनिया,
हमें अपने तेवर बदलने पड़ेंगे।
-आजाद कानपुरी, तेवरीपक्ष, जन-मार्च-08 पृ.11

15-व्यवस्था-विरोध-
की थी राम-राज्य की आशा,
हाथ लगी बस घोर निराशा।
यह बेजारी कब जायेगी?
मन में रही यही अभिलाषा।
-दर्शन बेजार, तेवरीपक्ष, वर्ष-6,अंक-3, पृ.19

—————- समाप्त ———————————-
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ’
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
मो.-9634551630

337 Views
You may also like:
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
आप कौन है
Sandeep Albela
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H. Amin
✍️क्या क्या पढ़ा है आपने ?✍️
"अशांत" शेखर
खेत
Buddha Prakash
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
नूर
Alok Saxena
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
Loading...