Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 1 min read

विरक्ती

क्या करे जीवन संचार – वह रक्त जो विरक्त हो,
किस आस पर टिके संसार – रीढ़ ही न सशक्त हो,
विरक्ति का अर्थ विपरीत , संघर्षरत सार
विरक्त आत्मा घुटने टेक , माने असमय हार II

जीवन के परिपेक्ष्य में, मोक्ष का चाहे अनुपम द्वार –
सशक्त ही जो विरक्त हो, कौन करे फिर बेड़ा पार ?
संघर्षरत मोहित ही कर पाएंगे ज्ञान की उष्मा का संचार
विरक्त जो गया हर जीव – कहाँ जीवन, कहाँ संसार ?

क्या धरे जीवन आधार – वह मनुज जो विरक्त हो,
जिस नींव पर टिका व्यवहार -भाव तो सशक्त हो!
विरक्ति नहीं मोहभंग हो, जूझ कर तम कर पराजित
न फ़ेंक अस्त्र , न त्याग शस्त्र, हो पराक्रम से सुस्सजितII

Language: Hindi
34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
View all
You may also like:
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
भगवा रंग में रंगें सभी,
भगवा रंग में रंगें सभी,
Neelam Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
"जिन्दगी में"
Dr. Kishan tandon kranti
🌸 आने वाला वक़्त 🌸
🌸 आने वाला वक़्त 🌸
Mahima shukla
हौसला देने वाले अशआर
हौसला देने वाले अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सबक
सबक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
आर.एस. 'प्रीतम'
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
दुरीयों के बावजूद...
दुरीयों के बावजूद...
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति  भर्वे भवे।*
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति भर्वे भवे।*
Shashi kala vyas
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
जवाब के इन्तजार में हूँ
जवाब के इन्तजार में हूँ
Pratibha Pandey
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
Ravi Prakash
😢😢
😢😢
*प्रणय प्रभात*
2706.*पूर्णिका*
2706.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुकर्मों से मिलती है
सुकर्मों से मिलती है
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ना जाने
ना जाने
SHAMA PARVEEN
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
Loading...