Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।

विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है,
अहंकार ने पग यूँ पसारे, की चेतना भी मूर्छित है।
अभिमान का ताप गहन है, नैतिकता तो वर्जित है,
निर्वस्त्र हो रही धरा यहां, और कहते चक्षु मनोरंजित है।
जीवात्मा ये रुग्ण पड़ी, पर आवरण को किया सुसज्जित है,
दम्भ करते सम्मान-हरण कर, यूँ चरित्र की नपुंसकता अर्जित है।
धर्म की परिभाषा नयी है, आडम्बर सुनियोजित है,
प्रतिस्पर्धा रणक्षेत्र बना जहां, विजयध्वज अराजकता को लक्षित है।
भोर में रौशन तिरस्कार घना है, स्याह रात्रि अब इक्षित है,
स्वार्थ की ऐसी विष-वृष्टि है, निर्मल हृदय रक्तरंजित है।
अतिक्रमित विचार हैं यहां, दर्पण स्वयं का विभाजित है,
असमंजस में पशु पड़ा है, मानवीय हिंसा यूँ उर्जित है।

2 Likes · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Mukar jate ho , apne wade se
Mukar jate ho , apne wade se
Sakshi Tripathi
मन की बात
मन की बात
पूर्वार्थ
प्रेम ईश्वर
प्रेम ईश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
gurudeenverma198
"पशु-पक्षियों की बोली"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2652.पूर्णिका
2652.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जिंदगी जीना है तो खुशी से जीयों और जीभर के जीयों क्योंकि एक
जय लगन कुमार हैप्पी
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
खुद को इंसान
खुद को इंसान
Dr fauzia Naseem shad
समझ
समझ
Shyam Sundar Subramanian
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
surenderpal vaidya
बेड़ियाँ
बेड़ियाँ
Shaily
नेतागिरी का धंधा (हास्य व्यंग्य)
नेतागिरी का धंधा (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
कितनी खास हो तुम
कितनी खास हो तुम
आकांक्षा राय
शेरू
शेरू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
Loading...