Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2022 · 1 min read

गणपति स्तुति

विघ्न हरण हे मंगलकारी
गणपति पूजा करें तुम्हारी

प्रथम निमंत्रण तुमको जाता
गणपति तुम हो भाग्य विधाता
पारवती के सुत अवतारी
गणपति पूजा करें तुम्हारी

मोदकप्रिय तुम अति बलशाली
बात तुम्हारी बड़ी निराली
सूंड तुम्हारी लगती प्यारी
गणपति पूजा करें तुम्हारी

दिखलाते हो अद्भुत लीला
रूप तुम्हारा बड़ा सजीला
मूषक पर तुम करो सवारी
गणपति पूजा करें तुम्हारी

मात पिता ब्रहमांड मानकर
लगा लिया इक पल में चक्कर
तुम हो जन जन के हितकारी
गणपति पूजा करें तुम्हारी

अष्ट सिद्धि के तुम हो ज्ञाता
सारे जग के तुम हो दाता
हरो अमंगल हो शुभकारी
गणपति पूजा करें तुम्हारी

तुमको घर ला करते पूजन
श्रद्धा से फिर करें विसर्जन
करो कामना पूर्ण हमारी
गणपति पूजा करें तुम्हारी

30-08-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

5 Likes · 2 Comments · 907 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
तुम
तुम
हिमांशु Kulshrestha
जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी करता है
जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी करता है
Rituraj shivem verma
जिसके पास
जिसके पास "ग़ैरत" नाम की कोई चीज़ नहीं, उन्हें "ज़लील" होने का
*प्रणय प्रभात*
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
shabina. Naaz
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
मैं प्रभु का अतीव आभारी
मैं प्रभु का अतीव आभारी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
फूल यूहीं खिला नहीं करते कलियों में बीज को दफ़्न होना पड़ता
फूल यूहीं खिला नहीं करते कलियों में बीज को दफ़्न होना पड़ता
Lokesh Sharma
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सीने पर थीं पुस्तकें, नैना रंग हजार।
सीने पर थीं पुस्तकें, नैना रंग हजार।
Suryakant Dwivedi
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
कवि दीपक बवेजा
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
नशा मुक्त अभियान
नशा मुक्त अभियान
Kumud Srivastava
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
gurudeenverma198
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
नववर्ष का आगाज़
नववर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
Ravi Prakash
Loading...