Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 1 min read

*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*

वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)
________________________
वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी
1
सॉंसें केवल चार मिली थीं, लगे चार दिन मेले
मेलों के आनंद तभी तक, चार जेब में धेले
याद कर रही वृद्धावस्था, खोई हुई जवानी
2
कोई राजा दास हो गया, कोई धनिक भिखारी
पतन और उत्थान हो रहा, हर क्षण सबका जारी
पल में रोना-पल में हॅंसना, मन की यही निशानी
3
कभी किसी से झगड़ा-टंटा, थाना और कचहरी
कभी चैन से शाम गुजरती, मृदुता लिए दुपहरी
एक दिवस रहता विनम्र सिर,अगले दिन अभिमानी
वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
#प्रणय_गीत-
#प्रणय_गीत-
*प्रणय प्रभात*
बिना मांगते ही खुदा से
बिना मांगते ही खुदा से
Shinde Poonam
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Keep this in your mind:
Keep this in your mind:
पूर्वार्थ
बेवक्त बारिश होने से ..
बेवक्त बारिश होने से ..
Keshav kishor Kumar
जो तू नहीं है
जो तू नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
डी. के. निवातिया
सुख - एक अहसास ....
सुख - एक अहसास ....
sushil sarna
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
बातों का तो मत पूछो
बातों का तो मत पूछो
Rashmi Ranjan
2567.पूर्णिका
2567.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
कहने से हो जाता विकास, हाल यह अब नहीं होता
gurudeenverma198
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
वज़्न ---221 1221 1221 122 बह्र- बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुखंन्नक सालिम अर्कान-मफ़ऊल मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
Neelam Sharma
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
Madhuyanka Raj
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
नशा मुक्त अभियान
नशा मुक्त अभियान
Kumud Srivastava
" मन मेरा डोले कभी-कभी "
Chunnu Lal Gupta
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
मेरी प्रेरणा
मेरी प्रेरणा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...