Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

वही इब्तिदा वही इन्तिहा थी।

पेश है पूरी ग़ज़ल…

शहर के अदीबों की चाहत थी।
कहने को वो एक तवायफ थी।।1।।

बचता ना कोई तीर ए नज़र से।
वो जीती जागती कयामत थी।।2।।

हर दिल ही सुकून पाता उससे।
प्यासे सेहरा में जैसे राहत थी।।3।।

जैसे परवाने को शम्मा चाहिए।
यूं सबमें बसी बुरी आदत थी।।4।।

हुस्न ए शबाब का क्या कहना।
मजबूर हर रूह की हालत थी।।5।।

वही इब्तिदा वही इन्तिहा थी।
वो हर दिल की ही हाजत थी।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"प्यार के दीप" गजल-संग्रह और उसके रचयिता ओंकार सिंह ओंकार
Ravi Prakash
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
Pravesh Shinde
आदिम परंपराएं
आदिम परंपराएं
Shekhar Chandra Mitra
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
* पराया मत समझ लेना *
* पराया मत समझ लेना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो पढ़ लेगा मुझको
वो पढ़ लेगा मुझको
Dr fauzia Naseem shad
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
मसीहा उतर आया है मीनारों पर
मसीहा उतर आया है मीनारों पर
Maroof aalam
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
Sandeep Pande
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
क्रांतिवीर नारायण सिंह
क्रांतिवीर नारायण सिंह
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चालवाजी से तो अच्छा है
चालवाजी से तो अच्छा है
Satish Srijan
■ #गीत :-
■ #गीत :-
*Author प्रणय प्रभात*
-- नसीहत --
-- नसीहत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
Anand Kumar
💐अज्ञात के प्रति-149💐
💐अज्ञात के प्रति-149💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
Man has only one other option in their life....
Man has only one other option in their life....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
ऐ सावन अब आ जाना
ऐ सावन अब आ जाना
Saraswati Bajpai
सोचें सदा सकारात्मक
सोचें सदा सकारात्मक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...