Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

वक़्त

जीवन की यात्रा में हर व्यक्ति,यदि खोता है कुछ तो पाता भी है।
कभी बुरा वक़्त कभी अच्छा वक़्त,हर व्यक्ति के जीवन में आता भी है।।
कौन है अपना कौन पराया यह उसको,उसका वक़्त यही बतलाता भी है।
बुरे वक़्त में गिर के संभलना,और सब्र करना वक़्त उसे समझाता भी है।।
हमारा बुरा वक़्त ही तो जीवन में,हमें सच्चे रिश्तों का ज्ञान कराता भी है।
और बुरा वक़्त ही हमें जीवन में,सहनशील और धैर्यवान बनाता भी है।।
लाखों अच्छे कर्म करके जीवन में,क्या राम कोई बन पाता भी है।।
और गलती से भी करे एक कर्म ग़लत,रावण वह ज़रूर बन जाता ही है।।
यदि वक़्त बुरा हो मानव का,उसका सही निर्णय भी ग़लत हो जाता ही है।
जो कार्य तुम करना नहीं चाहते हो,वो कार्य तुम्हारा वक़्त तुमसे करवाता ही है।।
कहे विजय बिजनौरी बुरे समय में,जो संयम और धैर्य को छोड़ नहीं पाता भी है।
वही सफलता की सीढ़ी चढ़ता है,और आगे जाकर दुनिया में नाम कमाता भी है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
दिल का भी क्या कसूर है
दिल का भी क्या कसूर है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
gurudeenverma198
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
Ms.Ankit Halke jha
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
"कहानी मेरी अभी ख़त्म नही
पूर्वार्थ
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
2908.*पूर्णिका*
2908.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कितने ही गठबंधन बनाओ
कितने ही गठबंधन बनाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दो साँसों के तीर पर,
दो साँसों के तीर पर,
sushil sarna
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
Charu Mitra
लेखनी
लेखनी
Prakash Chandra
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
तू क्यों रोता है
तू क्यों रोता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब जमाना आ गया( गीतिका )
अब जमाना आ गया( गीतिका )
Ravi Prakash
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
Dr fauzia Naseem shad
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
Kshma Urmila
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
कौन सुनेगा बात हमारी
कौन सुनेगा बात हमारी
Surinder blackpen
Loading...