Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी

जो कुछ बुरा है अपने जीवन में
किया-धरा नहीं अपना वह
उनने धरा दिया जबरन और अनधिकार

उनके जीवन में
जो भी दिखती है धार
वह सब है बहुजनों से छीना छल कपट वाला
ले उधार नहीं
धोखा दे हमारे लोहे से
बना ली उनने अपनी धार

जबकि जो भी है अपने जीवन में लोहा सोना
जिस भी ऐक्शन में अपने लगते हैं सान औ’ धार
बुद्ध, कबीर, रैदास, फुले, बाबा साहेब जैसे पुरखों से उनके जरूर से जुड़ते हैं तार

लाख चुकाओ चुक नहीं सकता एक भी कतरा
बाबा साहेब एवं उन जैसों से पाए ऋण का
जो उनसे मिला उधार!

Language: Hindi
2 Likes · 352 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
■ सावधान...
■ सावधान...
*Author प्रणय प्रभात*
तितली
तितली
Manu Vashistha
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️☁️🌄🌥️
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️☁️🌄🌥️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
स्वार्थ
स्वार्थ
Neeraj Agarwal
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
Buddha Prakash
विनम्रता, साधुता दयालुता  सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
विनम्रता, साधुता दयालुता सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
Rj Anand Prajapati
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
Harminder Kaur
किसी के दर्द
किसी के दर्द
Dr fauzia Naseem shad
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Indu Singh
तरक्की से तकलीफ
तरक्की से तकलीफ
शेखर सिंह
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
नसीब
नसीब
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो महज एक नाम हूँ
मैं तो महज एक नाम हूँ
VINOD CHAUHAN
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत" - भाग- 01 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
2625.पूर्णिका
2625.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कौन किसकी कहानी सुनाता है
कौन किसकी कहानी सुनाता है
Manoj Mahato
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
*पचपन का तन बचपन का मन, कैसे उमर बताएँ【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*पचपन का तन बचपन का मन, कैसे उमर बताएँ【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
Loading...