Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

त्वमेव जयते

लेखक डॉ अरूण कुमार शास्त्री
विषय धर्म रक्षक
शीर्षक त्वमेव जयते
विधा स्वच्छंद कविता

हे धर्म रक्षक आपकी जय हो।
आप हो इस धरा पर तभी तो धर्म है।

सम्पूर्ण ब्रह्मांड का सुनियोजन नियम के अनुसार ही होता है।
मात्र ऐच्छिक विषयों को यदि छोड़ दें ।

इन का मार्ग निर्देशन एक धर्म रक्षक के द्वारा ही सुनिश्चित ।
सृष्टि में इस धरा पर दो ही प्रकार के तत्व होते हैं, एक सजीव और दूसरा निर्जीव

विशेष परिस्थिति में ही निर्जीव अपने नियम भंग करते हैं।
इसके विपरीत सजीव किसी भी परिस्थिति में नियम तोड़ सकते।

हे धर्म रक्षक आपकी जय हो।
आप हो इस धरा पर तभी तो धर्म है।

धर्म को परिभाषित करते ही प्रश्न चिन्ह लगेगा क्यों कैसे कब ?
लेकिन धर्म को परिभाषित करने वालों को इसकी कोई परवाह नहीं।

न्याय व्यवस्था अर्थात धर्म का सम्मान करते हुए इसके विधि सम्मत जीवन यापन ।
इसके परे यदि कोई व्यवस्था होगी तो वो मिथ्या मात्र होगी।

हे धर्म रक्षक आपकी जय हो।
आप हो इस धरा पर तभी तो धर्म है।

धर्म की गति , लय, व दृष्टि वक्री हो ही नहीं सकती ।
और अधर्म की गति, लय और और दृष्टि कभी सीधी नहीं होती ।

धर्म सनातन है चिर है व्यवस्थित है सिद्ध और सैद्धांतिक व सुनिश्चित भी है।
इसीलिए धर्म को सम्पूर्ण जगत के अधिकारों को रक्षा का कार्यभार सौंपा है।

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
कोई नयनों का शिकार उसके
कोई नयनों का शिकार उसके
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गल्प इन किश एण्ड मिश
गल्प इन किश एण्ड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
दीवाली शुभकामनाएं
दीवाली शुभकामनाएं
kumar Deepak "Mani"
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
Phool gufran
गुलदानों में आजकल,
गुलदानों में आजकल,
sushil sarna
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
कवि रमेशराज
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
ज़िंदगी की उलझन;
ज़िंदगी की उलझन;
शोभा कुमारी
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
हर एक शख्स से ना गिला किया जाए
हर एक शख्स से ना गिला किया जाए
कवि दीपक बवेजा
मत कुचलना इन पौधों को
मत कुचलना इन पौधों को
VINOD CHAUHAN
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
Mahender Singh
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
Ravi Prakash
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बहू और बेटी
बहू और बेटी
Mukesh Kumar Sonkar
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
Loading...