Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम

(शेर)- क्या खूबसूरती पाई है आपने, माहताब लगते हो।
क्या हसीन चेहरा है आपका, एक गुलाब लगते हो।।
बनाया होगा फुर्सत में खुदा ने, आपको मेरे सनम।
नहीं है कोई जमीं पर आप सा, आफताब लगते हो।।
—————————————————————-
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम।
बहुत खूबसूरत, तुम हो सनम।।
तुम्हारी कसम, तुम्हारी कसम।—-(2)
लिखे क्या हुजूर———————।।

चिलमन हटाकर, करो बात हमसे।
छुपाओ नहीं तुम ,कोई राज हमसे।।
करने दो दिल को, दीदार तुम्हारा।
बहुत हो हसीन तुम, मेरे सनम।।
तुम्हारी कसम, तुम्हारी कसम।—-(2)
लिखे क्या हुजूर———————।।

नहीं कोई चुरा ले, आपसे हमको।
छुपा लो सनम तुम, बाँहों में हमको।।
नजर नहीं लगे,हमको किसी की यहाँ।
करो नहीं तारीफ, इतनी सनम।।
तुम्हारी कसम, तुम्हारी कसम।—–(2)
लिखे क्या हुजूर———————।।

घनघोर जुल्फें, ये नैन शराबी।
हिरणी सी चाल, ये होंठ गुलाबी।।
करती है मदहोश, ये तेरी पायल।
तुम अप्सरा हो, जमीं पे सनम।।
तुम्हारी कसम, तुम्हारी कसम।—-(2)
लिखे क्या हुजूर———————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छैल छबीली
छैल छबीली
Mahesh Tiwari 'Ayan'
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Hard To Love
Hard To Love
Vedha Singh
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भूख सोने नहीं देती
भूख सोने नहीं देती
Shweta Soni
*गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】*
*गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुमकिन हो जाएगा
मुमकिन हो जाएगा
Amrita Shukla
"सपने बिकते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
Dr Archana Gupta
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
जन्मदिन शुभकामना
जन्मदिन शुभकामना
नवीन जोशी 'नवल'
कोई मुरव्वत नहीं
कोई मुरव्वत नहीं
Mamta Singh Devaa
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
नाथ सोनांचली
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
अगर जाना था उसको
अगर जाना था उसको
कवि दीपक बवेजा
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
Loading...