Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

“लाभ के लोभ”

“लाभ के लोभ”

क्या है कोई ऐसा इंसान
जो लाभ के लोभ से
ऊपर उठ सका हो,
तलाश कर देखिए जरा।

– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

6 Likes · 2 Comments · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
पावस की ऐसी रैन सखी
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
23/109.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/109.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संवेदना(फूल)
संवेदना(फूल)
Dr. Vaishali Verma
सच अति महत्वपूर्ण यह,
सच अति महत्वपूर्ण यह,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गजब हुआ जो बाम पर,
गजब हुआ जो बाम पर,
sushil sarna
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
"वक्त वक्त की बात"
Pushpraj Anant
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
Pratibha Pandey
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
Abhishek Soni
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
-- नफरत है तो है --
-- नफरत है तो है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
🙅हस्तिनापुर🙅
🙅हस्तिनापुर🙅
*प्रणय प्रभात*
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
मोमबत्ती की रौशनी की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बीते हुए दिन बचपन के
बीते हुए दिन बचपन के
Dr.Pratibha Prakash
भिनसार हो गया
भिनसार हो गया
Satish Srijan
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
Loading...