Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

“लाभ का लोभ”

“लाभ का लोभ”
_____________

नित्य बढ़ रहे, अब आबादी;
मिली जबसे हमें , आजादी;
होती , संसाधन की बर्बादी;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।

फैला हुआ पूरा भ्रष्टाचार है;
लुप्त , प्रायः उच्च विचार है;
दिखता न, कोई ‘संस्कार’है;
सबमें,लाभ का ही लोभ है।

पढ़े-लिखे तो, अब घूम रहे;
अनपढ़ भी , कुर्सी चूम रहे;
नेतागण भी , खूब झूम रहे;
सबमें,लाभ का ही लोभ है।

स्वार्थी बना , सबका मन है;
देखो , कैसा विकट क्षण है;
देश से बढ़कर , आरक्षण है;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।

जात-पात तो,एक बहाना है;
कहीं निगाहें, दूर निशाना है;
आदत बना, मुफ्त खाना है;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।

बिन पुस्तक के,बीते सत्र है;
लक्ष्य , जाति प्रमाण-पत्र है;
जाति में, पैसों का प्रयोग है;
सबमें,लाभ का ही लोभ है।

शिक्षक के, कई फरियाद है;
शिक्षा कहीं न मिले आज है;
बच्चें को, धर्म-जाति याद है;
सबमें , लाभ का ही लोभ है।

धर्म भी, बन रही है आफत;
लालायित कुछ,मिले मुफत;
कौन बचायेगा, निज भारत;
सबमें, लाभ का ही लोभ है।
~~~~~~~~~~~~~~

स्वरचित सह मौलिक:
…..✍️पंकज कर्ण
……….कटिहार।।

Language: Hindi
305 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
■ लघुकथा / रेल की खिड़की
■ लघुकथा / रेल की खिड़की
*Author प्रणय प्रभात*
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
दुष्यन्त 'बाबा'
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अभिमान
अभिमान
Shutisha Rajput
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
Harminder Kaur
3199.*पूर्णिका*
3199.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अस्मिता
अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
*ये उन दिनो की बात है*
*ये उन दिनो की बात है*
Shashi kala vyas
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
"अभिव्यक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
"चिराग"
Ekta chitrangini
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
God is Almighty
God is Almighty
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
💐प्रेम कौतुक-350💐
💐प्रेम कौतुक-350💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
Loading...