Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

लाज शर्म को छोड़

********यह दुनिया ********

दुनिया में अगर पोपुलर होना है
तो शर्म लिहाज को छोड़ दो
आप प्रसिद्धी अगर पानी हैं तो
सच है शर्म लिहाज को मोड़ दो !!

आज हर तरफ भीड़ लगी है
बेशर्मी कि, कोई न रखता लिहाज
आते थे पहले भी इंसान यहाँ पर
पर आज चढ़ा इंसान जा जहाज !!

खुद को आगे निकलने की खातिर
उलझ रहा जंजालो में
आवश्यकता न भी हो चाहे उसे
पर डूब रहा विलासिता के झमेलों में !!

दुनिया तो रंग बिरंगी हे
इस का हर रंग निराला है
कर्ज लेकर आज महल बना रहा
न जाने कल कौन इस का रखवाला है !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
539 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
पूर्वार्थ
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
मैं मगर अपनी जिंदगी को, ऐसे जीता रहा
gurudeenverma198
गजलकार रघुनंदन किशोर
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
Satyaveer vaishnav
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
Er. Sanjay Shrivastava
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
शेखर सिंह
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
Shekhar Chandra Mitra
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
Vishal babu (vishu)
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2882.*पूर्णिका*
2882.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पापा जी
पापा जी
नाथ सोनांचली
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
Utkarsh Dubey “Kokil”
न कोई काम करेंगें,आओ
न कोई काम करेंगें,आओ
Shweta Soni
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
"हठी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...