Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

#लघुकथा / #बेरहमी

#लघुकथा-
■ क्या करता बेचारा कूलर?
【प्रणय प्रभात】
आठ बाय आठ का एक कमरा। फ़र्श पर आड़े-तिरछे पसरे आठ प्राणी। सब की कोशिश ढाई हजार रुपए के लोकल कूलर में लगभग घुस जाने की। आखिर पहली बार तन-पेट काट कर लाया गया था वो कूलर। ठंडी हवा पर सबका साझा हक़ था। प्रचंड गर्मी के मौसम में कमरे का माहौल लगभग क्वार के महीने सा ही था।
अचानक एक झटके से बिजली चली गई। बेरहम आषाढ़ ने सभी को झकझोर कर जगा दिया। कोने में रखा छोटा सा कूलर आँखें मलते बेबसों को देख कर अब बेहद शर्मिंदा सा था। उसे पता था कि उसकी सेवा बिजली कंपनी के कारिंदों पर निर्भर है।।
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)
😢😢😢😢😢😢😢😢

1 Like · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
Pramila sultan
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
Hello
Hello
Yash mehra
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मान तुम प्रतिमान तुम
मान तुम प्रतिमान तुम
Suryakant Dwivedi
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
2593.पूर्णिका
2593.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
इश्क़ इबादत
इश्क़ इबादत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
Shweta Soni
सर्वे भवन्तु सुखिन:
सर्वे भवन्तु सुखिन:
Shekhar Chandra Mitra
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
आकांक्षा राय
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
"चाँद-तारे"
Dr. Kishan tandon kranti
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
Loading...