Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

रुपयों लदा पेड़ जो होता ,

रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
सोचो जीवन कैसा होता।
नहीं जेब पे ताला होता ,
हर कोई पैसे वाला होता

न कोई भूखा नंगा होता ,
जीवन कितना चंगा होता,
चमक जाते भाग्य के तारे,
सपने आते न्यारे-न्यारे।

फिर ना कोई बोझा ढोता ,
अपनी किस्मत पर ना रोता।
सबके पास खजाना होता ,
तरह-तरह का खाना होता।

पापा काम पर नहीं जाते ,
करते घर में सदा आराम।
मम्मी को करना ना पड़ता ,
घर का कभी इतना काम।

घर में एक रोबोट होता ,
जो कर देता सब इंतजाम।
बात बात पर हर -पल मुझको ,
मिलते तरह – तरह के इनाम।

माना रुपयों में ताकत है ,
पर ज्यादा होना आफत है।
ये छल-बल और बगावत है ,
ये कई रोग का दावत है।

भवन बड़ा दिल छोटा होता ,
नीयत सबका खोटा होता।
नौकरियों में ना कोटा होता ,
खा-खा के पेट मोटा होता।

जगह-जगह घोटाला होता ,
पल में तब मुँह काला होता।
फिर न कोई फरिश्ता होता,
पैसों का सब रिश्ता होता।

#वेधासिंह
#पांचवीं

Language: Hindi
74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जन्मजात कवि थे श्री बृजभूषण सिंह गौतम अनुराग*
*जन्मजात कवि थे श्री बृजभूषण सिंह गौतम अनुराग*
Ravi Prakash
दान
दान
Mamta Rani
#अद्भुत_संस्मरण
#अद्भुत_संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
अनुभव 💐🙏🙏
अनुभव 💐🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
नेह निमंत्रण नयनन से, लगी मिलन की आस
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
जिस घर में---
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
रंगो ने दिलाई पहचान
रंगो ने दिलाई पहचान
Nasib Sabharwal
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
इंसान की भूख कामनाएं बढ़ाती है।
इंसान की भूख कामनाएं बढ़ाती है।
Rj Anand Prajapati
वो क्या गिरा
वो क्या गिरा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
Neelam Sharma
चुप
चुप
Ajay Mishra
3071.*पूर्णिका*
3071.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सिखों का बैसाखी पर्व
सिखों का बैसाखी पर्व
कवि रमेशराज
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
जय लगन कुमार हैप्पी
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
"कमल"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
*तू एक फूल-सा*
*तू एक फूल-सा*
Sunanda Chaudhary
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...